Vikas Singh

sharing words with this world :)

रहगुज़र :)

                    “—————रहगुज़र ——————–”

कुछ इस कदर मुकाम बनाया है,
                    अपना रास्ता अकेले ही बनाया है
आदत न थी, कदमो पे कदम रखकर चलने की
                    तो बीहड़ में ही गुलिस्तान सजाया है.
रोशनी के लिए खून जलाया है,
                    प्यास को पसीने से बुझाया है
थक-कर कभी रुके कही, तो
                    खुद का हाथ पकड़, खुद को आगे बढाया है.——-(१).

अब तो कुछ ऊँचा ही ,
                    लगता अपना ठिकाना है
बहुत बोल चुके ,
                    अब कुछ कर दिखाना है.
जब नींद लगी तो ,
                    हौसोलो का तकिया बनाया है
ज़िन्दगी क्या जीना सिखलाएगी हमे ?
                     हमने जिंदगी को जीना सिखाया है. ———(२).

बीत गए वो दिन ,
                     जब घुटनो के बल हम चलते थे
अब कद को इतना बढाया है ,
                     कि, कदमो में आस्मां आया है.
पल्को से गिरते पसीने ने
                    आँखो की चमक बढाई है.
अब पलके न हिलाने की
                    शर्त हमने खुद से लगायी है.
दस्तूरो का हिज़ाब निकाल,
                    मैंने वसूलो को अपनाया है ,
साड़ी रस्मे ख़फा भले हो ,
                    मैंने ख़ुद को मेहनत से पाया है
ख़ुदा से खुद्द्दारी सीखी,
                    खुद्दारी से ख़ुद को पाया है .———(३).

Advertisements

Single Post Navigation

8 thoughts on “रहगुज़र :)

  1. Sunil on said:

    Chhaaa gaye vikas baabu!!

  2. ur poetry z praiseworthy.

  3. Gooooooooooooooooooooooooooooooooddddddddddd!!!!!!!!!!!!!

  4. sonu gupta on said:

    badiya h………kmal ke shabdo ka use kr kavi ne apni baato ko piroya h…..

  5. to be honest, i’d stick to my prev reply

Leave a comment/feedback to make it better ;)

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: